वचन – परिभाषा, भेद, प्रकार, उदाहरण

आज हम इस लेख में जानेंगे की वचन किसे कहते है एवं इसके प्रकार कितने है। हिंदी भाषा में वचन का सामान्य भाषा में बात करें तो इसका अर्थ ‘‘ हिंदी भाषा में संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण में क्रिया के स्थान पर किसी नंबर का बोध होता है तो उसे वचन की संज्ञा दी जाती है।  ’’ 

हमारे पढने व लिखने के अनुसार तो वचन एक ही होती है लेकिन व्याकरण के अनुसार वचन को कई अनेक भागों में बांटा गया है। इसलिए हमें वचन क्या है इसे समझना चाहिए। आज का हमारा यह लेख आपको इस के बारे में अच्छे से समझायेगा की वचन क्या है एवं इसके कितने प्रकार होते है। 

वचन क्या है एवं इसके प्रकार के बारे में इस लेख में आपको पूरी जानकारी देने का प्रयास करेंगे। हम उम्मीद करते है की आपको हमारा ये लेख पसंद आएगा। जब हम बचपन में स्कूल में पढते थे तब से ही वचन एवं व्याकरण के बारे में पढते आ रहे है। 

इसके बावजूद भी ऐसे कई बिंदु है जो हमें वचन एवं हिंदी व्याकरण के संदर्भ में समझ नही आते है। हमारे इसी लेख में उन्ही बिन्दुओं को समझाने का प्रयास कर रहे है। चलिये जानते है की वचन क्या है और इसके कितने प्रकार है –

वचन की परिभाषा  (Vachan ki Paribhasha)

हिंदी भाषा में संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण में क्रिया के स्थान पर किसी नंबर का बोध होता है तो उसे वचन की संज्ञा दी जाती है।

वचन के प्रकार  (Vachan ke Prakar)

हिंदी में मुख्य रूप से वचन 2 प्रकार के होते है। पहला – एकवचन, दूसरा – बहुवचन 

  • एकवचन – ऐस वचन जिसका केवल एक ही अर्थ हो, ऐसे वचन को एक वचन कहा जाता है। जैसे – लड़का, लडकी, गाय, बन्दर, मोर, बेटी, घोडा, नदी, कमरा, घड़ी, घर, पर्वत, मैं, वह, यह, रुपया, अध्यापक, केला, चिड़िया, संतरा, गमला, तोता, चूहा आदि।
  • बहुवचन – ऐसे वचन जिसके एक से अधिक वचन होते है, उन्हें बहुवचन कहते है। जैसे – लड़के, गायें, कपड़े, टोपियाँ, मालाएँ, स्त्रियां, बेटे, बेटियाँ, केले, गमले, चूहे, तोते, घोड़े, हम, वे, ये, लताएँ, गाड़ियां, रुपए आदि। 

वचन के प्रभाव 

हिंदी में ही नही किसी भी भाषा में वचन का काफी महत्व होता है। किसी के शब्द के वचन में परिवर्तन करने मात्र से ही किसी भी  शब्द का भाव बदल जाता हैं। इस प्रकार के कुछ उदाहरण इस प्रकार हैं। 

जैसे : “ लड़का खेल रहा है ” ( इसमें सामान्य भाव है की केवल एक ही लड़का खेल खेल रहा है ) , वही एक दूसरा उदहारण देखे तो इसमें “ लड़के खेल रहे है  ” ( इसमें सामान्य भाव तो देखे तो एक से भी अधिक लड़के खेल रहे है, इस प्रकार का भाव प्रकट होता है )।

ऐसे वचन जो किसी वाक्य का भाव बदल देते है 

किसी को आदर देने या किसी को सम्मान देने के लिए भी वचनों को बदल कर उसका  प्रयोग किया जाता है. ऐसे कुछ उदाहरण इस प्रकार है. 

  • गांधीजी चंपारण आये थे. 
  • गुरूजी आज स्कूल नही आये. 
  • पापाजी कल अहमदाबाद जायेंगे 

एक वचन जो की सम्बन्ध बताने के लिए संबोधित किये जाते है. 

  • दादा, 
  • दादी, 
  • नाना, 
  • नानी, इतियादी 

एकवचन और बहुवचन के उदाहरण

शब्दों के अन्त मेंके स्थान परअथवालगाकर : 

एकवचन = बहुवचन

पौधा            पौधे

बच्चा            बच्चे

गाय            गायें

रात            रातें

स्त्रीलिंग शब्दों के अंत मेंएँलगाकर :

एकवचन = बहुवचन

बालिका            बालिकाएँ

दवा                 दवाएँ

वस्तु              वस्तुएँ

स्त्रीलिंग शब्दों के अंत मेंको हटाकरयाँलगाने से:

एकवचन = बहुवचन

बकरी            बकरियाँ

थाली            थालियाँ

इसी प्रकार से अन्य उदाहरण हैं:

झूला              झूले

पत्ता            पत्ते

कपड़ा           कपड़े

आँख           आँखें

पत्ती          पत्तियाँ

कहानी        कहानियां

कक्षा           कक्षाएँ

दरवाजा        दरवाजे

अन्य उदाहरण देखें।

3. फूल खिल उठा। (एकवचन)

4. फूल खिल उठे। (बहुवचन)

प्रायः संज्ञा, सर्वनाम, क्रिया और विशेषण के रूप को बदल कर ही किसी भी शब्द के वचन में बदलाव लाया जा सकता है।  जैसे-

गधा, गधे, गधों

बच्चा, बच्चे, बच्चों

लड़का, लड़के, लड़कों

समुदायवाचक संज्ञा में एक से अधिक लोगों के लिए एकवचन का ही प्रयोग मुख्य रूप में होता है। जैसे-

सेना तैयार है। (एकवचन)

कक्षा में शोर हो रहा है। (एकवचन)

कुछ शब्दों में कारक शब्द जुड़ने से संज्ञा या सर्वनाम के वचन में परिवर्तन आ जाता है। जैसे-

माता-माताओं

बेटा-बेटों

बहन-बहनें, बहनों

भाई- भाइयों

बच्चा- बच्चो

निष्कर्ष

यहाँ हमने वचन क्या है एवं इसके साथ ही गणित के सभी प्रकारों की जानकारी दी है, अगर आपको हमारा यह आर्टिकल अच्छा लगा है तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें। अगर वचन से जुड़ा किसी भी तरह का प्रश्न है तो आप यहाँ कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं। हमें उम्मीद है की आप हमारा यह मेहनत भरा लेख अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करेंगे।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *