मुहावरा – परिभाषा, भेद और उदाहरण

आज हम इस लेख में जानेंगे की मुहावरे किसे कहते है एवं इसके प्रकार कितने है। हिंदी भाषा में मुहावरे का सामान्य भाषा में बात करें तो इसका अर्थ ‘‘ भाषा की समृद्धि और उसकी अभिव्यक्ति क्षमता के विकास हेतु हिंदी भाषा में मुहावरों एवं कहावतों का प्रयोग उपयोगी होता है। हिंदी भाषा में इसके प्रयोग से सजीवता और और साथ ही प्रवाहमयता आ जाती है, फलस्वरूप ऐसे मुहावरों पाठक या श्रोता शीघ्र ही प्रभावित हो जाता है। जिस भाषा में भाषा में उनका जितना अधिक प्रयोग होगा, उसकी अभिव्यक्ति क्षमता उतनी ही ज्यादा प्रभावपूर्ण व उतनी रोचक होगी। ’’ 

हमारे पढने व लिखने के अनुसार तो मुहावरे एक ही होती है लेकिन व्याकरण के अनुसार मुहावरे को कई अनेक भागों में बांटा गया है। इसलिए हमें मुहावरे क्या है इसे समझना चाहिए। आज का हमारा यह लेख आपको इस के बारे में अच्छे से समझायेगा की मुहावरे क्या है एवं इसके कितने प्रकार होते है। 

मुहावरे क्या है एवं इसके प्रकार के बारे में इस लेख में आपको पूरी जानकारी देने का प्रयास करेंगे। हम उम्मीद करते है की आपको हमारा ये लेख पसंद आएगा। जब हम बचपन में स्कूल में पढते थे तब से ही मुहावरे एवं व्याकरण के बारे में पढते आ रहे है। 

इसके बावजूद भी ऐसे कई बिंदु है जो हमें मुहावरे एवं हिंदी व्याकरण के संदर्भ में समझ नही आते है। हमारे इसी लेख में उन्ही बिन्दुओं को समझाने का प्रयास कर रहे है। चलिये जानते है की मुहावरे क्या है और इसके कितने प्रकार है –

मुहावरे शब्द का अर्थ 

भाषा की समृद्धि और उसकी अभिव्यक्ति क्षमता के विकास हेतु हिंदी भाषा में मुहावरों एवं कहावतों का प्रयोग उपयोगी होता है। हिंदी भाषा में इसके प्रयोग से सजीवता और और साथ ही प्रवाहमयता आ जाती है, फलस्वरूप ऐसे मुहावरों पाठक या श्रोता शीघ्र ही प्रभावित हो जाता है। जिस भाषा में भाषा में उनका जितना अधिक प्रयोग होगा, उसकी अभिव्यक्ति क्षमता उतनी ही ज्यादा प्रभावपूर्ण व उतनी रोचक होगी।

मुहावरों की विशेषता

  • किसी भी मुहावरे का प्रयोग किसी भी वाक्य के प्रसंग में होता है, अलग नही। जैसे, अगर कोई कहे कि ‘पेट काटना’ तो इस शब्द से कोई विशेष अर्थ प्रकट नहीं होता है। इसके विपरीत, कोई कहे कि ‘मैंने पेट काटकर’ अपने लड़के को पढ़ाया, तो ऐसे में इस वाक्य के अर्थ में एक संकेत, सुंदरता और एक लय प्राप्त हो जाती है।
  • मुहावरा का सबका अपना अपना असली रूप कभी नहीं बदलता अर्थात उसे पर्यायवाची शब्दों में परिवर्तित भी नहीं किया जा सकता है। जैसे- ‘कमर टूटना’ हिंदी में एक मुहावरा है, लेकिन इसके स्थान पर ‘कमर टूटने’ के पर्यायवाची शब्द ‘कटिभंग’ इतियादी जैसे शब्द का प्रयोग गलत होगा।
  • मुहावरे का शब्दार्थ नहीं, किसी भी शब्द में उसका विशेष अर्थ ही ग्रहण किया जाता है; जैसे- ‘खिचड़ी पकाना’। ये दोनों शब्द जब किसी मुहावरे के रूप में प्रयुक्त होंगे, तब इनका शब्दार्थ नहीं लिया जा सकता है । लेकिन, वाक्य में जब इन शब्दों का प्रयोग होगा, तब विशेष अर्थ होगा- ‘गुप्त रूप से सलाह करना’।
  • मुहावरे का अन्य अर्थ प्रसंग के अनुसार होता है। जैसे- ‘लड़ाई में खेत आना’ । इसका शब्द का सामान्य अर्थ ‘युद्ध में शहीद हो जाना’ है, न कि लड़ाई के स्थान पर किसी अन्य ‘खेत’ का चला आना।
  • हिन्दी के अधिकतर मुहावरों का सीधा सम्बन्ध हमारे शरीर के कई एनी भिन्न-भिन्न अंगों से है। यह बात दूसरी भाषाओं के मुहावरों में भी कही कही पायी जाती है; जैसे- मुंह, कान, हाथ, पाँव इत्यादि पर अनेक मुहावरे प्रचलित हैं। हमारे अधिकतर कार्य उन्हीं के सहारे चलते हैं।

मुहावरों के प्रकार 

मुहावरों के कुछ प्रकार 

  • सादृश्य पर आधारित
  • शारीरिक अंगों पर आधारित
  • असंभव स्थितियों पर आधारित
  • कथाओं पर आधारित
  • प्रतीकों पर आधारित
  • घटनाओं पर आधारित

कुछ सामान्य मुहावरे

कुछ मुहावरे जो हम हमारे दैनिक जीवन में उपयोग करते है. 

  • अंक भरना – स्नेह से लिपटा लेना
  • अंग टूटना – थकान से दर्द होना
  • अंगार बनना – लाल होना या क्रुद्ध होना
  • अंगारों पर पैर रखना – जानबूझकर हानिकारक काम करना
  • अंगारों पर लोटना – दुःख सहना
  • अपने पाँव आप कुल्हाड़ी मारना – संकट मोल लेना
  • अपने पैरों खड़ा होना – स्वावलम्बी होना
  • अपने मुँह मिया मिट्ठू होना – अपनी तारीफ खुद करना
  • अब-तब करना – बहाना करना
  • अब-तब होना – परेशां करना या मरने के करीब होना
  • आँच न आने देना – जरा भी कष्ट न होने देना
  • आठ-आठ आँसू रोना – बुरी तरह पछताना
  • आसान डोलना – विचलित या लुब्ध होना
  • आस्तीन का साँप – कपटी मित्र
  • आसमान टूट पड़ना – बहुत बड़ा संकट पड़ना
  • आँखें खुलना – होश आना या सावधान होना
  • आँखें चार होना – आमने सामने होना
  • आँखें मूंदना – मर जाना
  • आँखों में खून उतरना – अधिक क्रोध करना
  • आँखों में गड़ना –  की उत्कष्ट लालसा
  • आँखें फेर लेना – उदासीन होना
  • आँख मारना – इशारा करना
  • आँखों में धूल झोकना – धोखा देना
  • आँखें बिछाना – प्रेम से स्वागत करना
  • आँखों का काँटा होना – शत्रु होना
  • ईंट का जबाब पत्थर से देना – किसी की दुष्टता का करारा जबाब देना
  • ईद का चाँद होना – बहुत दिनों बाद दिखाई देना
  • उगल देना – गुप्त बात प्रकट कर देना
  • उठा न रखना – कसर न छोड़ना
  • उलटी गंगा बहाना – प्रतिकूल कार्य
  • किस मर्ज की दवा – किस काम के
  • कोसों दूर भागना – बहुत अलग रहना
  • कलेजे पर सांप लोटना – कुढ़ना
  • कलेजा ठंडा होना – संतोष होना
  • खटाई में पड़ना – रुक जाना या झमेले में पड़ना
  • खाक छानना – भटकना
  • हथियार डाल देना – हार मान लेना

निष्कर्ष

यहाँ हमने मुहावरे क्या है एवं इसके साथ ही गणित के सभी प्रकारों की जानकारी दी है, अगर आपको हमारा यह आर्टिकल अच्छा लगा है तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें। अगर मुहावरे से जुड़ा किसी भी तरह का प्रश्न है तो आप यहाँ कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं। हमें उम्मीद है की आप हमारा यह मेहनत भरा लेख अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करेंगे।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *