Affiliate Marketing क्या है और Affiliate Marketing से पैसा कमाने के बेस्ट तरीके।

आज टेक्नोलॉजी ने काफी ज्यादा विकास कर लिया है और टेक्नोलॉजी के आ जाने से मनुष्य के कार्यों में काफी ज्यादा सरलता और शीघ्रता भी आई है। टेक्नोलॉजी की सहायता से हम अपने कार्यों को आसान बनाने के साथ-साथ इससे घर बैठे पैसा भी कमा सकते हैं। 

वैसे तो इंटरनेट पर पैसे कमाने के कई सारे रास्ते उपलब्ध है, परंतु एक ऐसा लोकप्रिय रास्ता आज के समय में इंटरनेट से पैसे कमाने के लिए लोग अपना रहे हैं, इसकी लोकप्रियता भी दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है और उस रास्ते का नाम है, एफिलिएट मार्केटिंग 

आप एफिलिएट मार्केटिंग के जरिए हजारों नहीं अपितु लाखों रुपए हर महीने कमा सकते हैं। आज के इस महत्वपूर्ण लेख में हम आप सभी लोगों को एफिलिएट मार्केटिंग क्या है ? और एफिलिएट मार्केटिंग से पैसे कैसे कमाए ? एवं एफिलिएट मार्केटिंग कैसे कार्य करती है?, इन सभी महत्वपूर्ण पहलुओं पर विस्तार पूर्वक से जानकारी प्रदान करेंगे।

एफिलिएट मार्केटिंग क्या है?

अब आपके मन में सवाल उठ रहा होगा कि आखिर आप एफिलिएट मार्केटिंग को हिंदी में क्या कहते है?, इसे हिंदी में सहबद्ध विपणनकहते हैं। यदि हम इसे सरल भाषा में समझने का प्रयत्न करें तो यह एक ऐसा कार्य है, जिसके अंतर्गत हम किसी व्यक्ति या फिर किसी कंपनी के साथ जोड़कर उसके प्रोडक्ट या फिर किसी अन्य सर्विस को अपने माध्यम से प्रमोद करवा कर उसके सेल में वृद्धि करवाते हैं और फिर इसके बदले में कंपनी या फिर वह व्यक्ति हमें निर्धारित कमीशन हमारे एफिलिएट अकाउंट के अंदर डिपॉजिट करता है। एफिलिएट मार्केटिंग मुख्यता ऑनलाइन ही की जाती है और इसी कारण इसके प्रोडक्ट या फिर अन्य सर्विस को ऑनलाइन प्रमोट किया जाता है और साथ ही में इसे ग्राहकों को सेल किया जाता है।

एफिलिएट मार्केटिंग कैसे वर्क करती है?

एफिलिएट मार्केटिंग का कार्य कई चरणों से होकर गुजरता है और फिर तब जाकर आप इससे इनकम जनरेट कर पाते हैं। अब चलिए हम आपको आगे अपनी एक मार्केटिंग के कार्य प्रक्रिया को समझाने का प्रयास करते हैं, जो इस प्रकार से नीचे निम्नलिखित हैं।

  • Affiliate program :-

जब कोई कंपनी या फिर कोई व्यक्ति अपने प्रोडक्ट को या फिर सर्विस को प्रमोद करवाने के लिए किसी दूसरे का सहारा लेता है और अपने एफिलिएट प्रोग्राम के जरिए अपने एपीलेटर को सेल में वृद्धि करवाने के बदले कमीशन प्रदान करता है, तो इसे हम एफिलिएट प्रोग्राम कहते हैं।

  • Affiliate marketplace :-

प्रत्येक एपीलेटर व्यक्ति अपने एफिलिएट मार्केटिंग के पार्टनर प्रोग्राम के अंतर्गत प्रोडक्ट या सर्विस को सेल करवाने के लिए जहां पर लिस्ट करवाता है, उसे एफिलिएट मार्केट प्लेस कहते हैं। यहां पर कई सारे अलग-अलग प्लेटफार्म के मार्केट एपीलेटर अपने प्रोडक्ट या सर्विस को लिस्ट करवाते हैं।

  • Affiliate ID :-

जब हम किसी एफिलिएट प्रोग्राम चलाने वाली कंपनी के साथ कार्य करने के लिए जुड़ते हैं, तब वह हमें अपने एफिलिएट प्रोग्राम से ज्वाइन करवाने हेतु एक साइन अप फॉर्म फिल करवाते हैं। आप बिना साइन अप प्रक्रिया को पूरा किए किसी भी एफिलिएट कंपनी में लॉग इन नहीं हो सकते हैं। साइन अप हो जाने के पश्चात आपको एक यूनिक आईडी प्रदान की जाती है और इसी को एफिलिएट आईडी भी कहते हैं।

  • Affiliate link :-

एफिलिएट कंपनी से ज्वाइन हो जाने के पश्चात और यूनिक आईडी मिलने के बाद आपको प्रत्येक प्रोडक्ट या फिर सर्विस को सेल करवाने के लिए उसका एक एफिलिएट लिंक तैयार करना होता है। आप बड़ी ही आसानी से अपना एफिलिएट कंपनी में लॉगिन हो जाने के बाद प्रत्येक प्रोडक्ट या सर्विस का आसानी से एफिलिएट लिंक तैयार कर सकते हैं। 

जब आप अपने एफिलिएट लिंक से कंपनी के किसी प्रोडक्ट या सर्विस को सेल करवाते हैं, तो कंपनी को आपके एफिलिएट लिंक से पता चल जाता है कि आपने कौन सा और कितने ग्राहकों को उनका प्रोडक्ट सेल किया है। इसके बाद प्रत्येक प्रोडक्ट के निर्धारित कमीशन को उसके सेल  हो जाने के पश्चात आपके एफिलिएट अकाउंट में डिपाजिट कर दिया जाता है।

  • Affiliate commission :-

कंपनी के प्रत्येक प्रोडक्ट या सर्विस के अलग-अलग श्रेणियों के आधार पर एफिलिएट लिंक तैयार करके उसे सेल करवाने के पश्चात आपको निर्धारित किया गया कमीशन आपके  एफिलिएट अकाउंट में ट्रांसफर कर दिया जाता है। ध्यान रहे प्रत्येक प्रोडक्ट या फिर सर्विस का अलग-अलग कमीशन आपको प्राप्त हो सकता है।

  • Payment :-

ऊपर बताए गए सभी चरणों से होकर गुजरने के बाद अंतिम में एक एफिलिएट मार्केटर को एफिलिएट कंपनी द्वारा निर्धारित किए गए पेमेंट की कंडीशन को पूरा करने के बाद आपके बैंक खाते में पेपल अकाउंट में या फिर अन्य पेमेंट मोड के जरिए आपको आपका एफिलिएट रनिंग ट्रांसफर कर दिया जाता है।

एफिलिएट मार्केटिंग से पैसे कमाने के लिए आवश्यक चीजें?

आपको इस क्षेत्र में कार्य करने के लिए कुछ आवश्यक चीजों की आवश्यकता होगी और इसकी जानकारी इस प्रकार से नीचे निम्नलिखित है।

  1. कोई भी एक एथलीट कंपनी जिसके साथ आप जुड़े कर पैसा कमाएंगे।
  2. लैपटॉप या फिर मोबाइल फोन
  3. इंटरनेट कनेक्शन
  4. कोई भी एक ऑनलाइन प्रोडक्ट या सर्विस को प्रमोट करने के लिए प्रमोशन प्लेटफार्म।
  5. धैर्य।

एफिलिएट मार्केटिंग कंपनियां इंडिया में?

आज हमारे देश में अमेजॉन फ्लिपकार्ट और भी कई सारी एफिलिएट मार्केटिंग कंपनियां मौजूद हैं और आप उनके साथ जोड़कर एफिलिएट मार्केटिंग करके पैसा कमा सकते हैं। आइए अब आगे जानते हैं, कि भारत में टॉप एफिलिएट कंपनियां कौन-कौन सी है?, जिसकी सूची इस प्रकार से नीचे निम्नलिखित है।

  1. Amazon
  2. Flipkart
  3. eBay
  4. Myntra
  5. Snapdeal
  6. Shopclues
  7. Commission junction
  8. Godaddy
  9. Hostgator
  10. Clickbank

Etc.

एफिलिएट मार्केटिंग से पैसे कमाने के लिए 5 तरीके?

वैसे तो एफिलिएट मार्केटिंग के जरिए पैसे कमाने के बहुत सारे रास्ते हैं, परंतु उनमें से कुछ ही लोग उन रास्तों के बारे में जानते हैं, जिनके जरिए आप एफिलिएट मार्केटिंग से पैसा बना सकते हैं। चलिए हम आगे आपको कुछ ऐसे एफिलिएट मार्केटिंग से पैसे कमाने के तरीके बताते हैं, जो लोकप्रिय हैं और कुछ यूनिक भी है।

  1. यूट्यूब के माध्यम से एफिलिएट करके :-

अगर आपके पास यूट्यूब चैनल है और उस पर अच्छे खासे सब्सक्राइबर मौजूद है, तो आप एफिलिएट मार्केटिंग करके अच्छा पैसा कमा सकते हैं।

  1. ब्लॉगिंग के जरिए एफिलिएट मार्केटिंग करके :-

आप अगर कोई ब्लॉग या फिर वेबसाइट चलाते हैं, तो और उस पर अच्छा ट्रैफिक रोजाना के प्राप्त करते हैं, तो ऐसे में आप अपने ब्लॉग पर एफिलिएट मार्केटिंग के लिंक के जरिए बड़ी ही आसानी से हर महीने अच्छा पैसा कमा सकते हैं।

  1. एफिलिएट वेबसाइट के जरिए :-

आजकल लोग किसी भी एक कम कंपटीशन वाले एफिलिएट प्रोडक्ट के ऊपर डेडिकेटेड एफिलिएट वेबसाइट डिजाइन करते हैं। ऐसी वेबसाइटों पर अच्छे से और स्मार्ट तरीके से कार्य करके हर महीने एक मोटी रकम कमाई जा सकती है।

  1. सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के जरिए :-

अगर आपके सोशल मीडिया अकाउंट पर अच्छी संख्या में फॉलोअर्स मौजूद हैं, तो आप अपने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करके भी एफिलिएट मार्केटिंग से पैसा बना सकते हैं।

  1. एफिलिएट मार्केटप्लेस के जरिए :-

एफिलिएट मार्केटप्लेस पर हम प्रोडक्ट या फिर सर्विस को सेल करवाने हेतु लिस्ट करवा सकते हैं और इस प्रक्रिया से भी हम एफिलिएट मार्केटिंग के जरिए पैसा बड़ी ही आसानी से कमा सकते हैं।

एफिलिएट मार्केटिंग से कमाने के लिए महत्वपूर्ण बातें?

अगर आप एफिलिएट मार्केटिंग करना चाहते हैं और इससे पैसा कमाना चाहते हैं, तो आपको कुछ महत्वपूर्ण इससे जुड़े हुए बातों के बारे में जानकारी होना बेहद आवश्यक है और एफिलिएट मार्केटिंग से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां इस प्रकार से नीचे निम्नलिखित रूप में बताई गई है।

  • आप एफिलिएट लिंक और गूगल ऐडसेंस का एक साथ में इस्तेमाल अपने आवश्यकता के अनुसार कर सकते हैं।
  • किसी भी एफिलिएट प्रोग्राम को ज्वाइन करने के लिए कोई भी महत्वपूर्ण और खास नियम का पालन नहीं करना है और इसे बिल्कुल मुफ्त में पैसा कमाने के लिए ज्वाइन किया जा सकता है।
  • एफिलिएट मार्केटिंग के माध्यम से पैसा कमाए गए पैसे को आप सीधे अपने बैंक खातों में प्राप्त कर सकते हैं।
  • आप एफिलिएट मार्केटिंग को कहीं पर भी आसानी से अपने सुविधा और जरूरत के अनुसार करके पैसा कमाने के लिए स्वतंत्र हैं।

निष्कर्ष :-

हमने आपको अपने आज के इस महत्वपूर्ण लेख में एफिलिएट मार्केटिंग के जरिए पैसा कैसे कमाते हैं ? और इससे जुड़ी हुई कुछ महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान की है। हमें उम्मीद है, कि आप को एफिलिएट मार्केटिंग के जरिए पैसा कमाने के लिए यह लेख काफी महत्वपूर्ण लगेगा।

FAQ:

  1. Q: क्या एफिलिएट मार्केटिंग से पैसा कमाने के लिए कोई क्वालिफिकेशन चाहिए?

Ans :- जी बिल्कुल भी नहीं।

  1. Q: एफिलिएट मार्केटिंग को हम कौन कौन से प्लेटफार्म पर कर सकते हैं?

Ans :- आप इसे वेबसाइट, ब्लॉक, यूट्यूब चैनल या फिर फेसबुक, इंस्टाग्राम, टि्वटर एवं अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर कर सकते हैं।

  1. Q: एफिलिएट मार्केटिंग में कमीशन किस आधार पर प्राप्त होता है?

Ans :- प्रत्येक प्रोडक्ट और उसके सर्विस के आधार पर आपको कमीशन प्रदान किया जाता है और यह प्रत्येक प्रोडक्ट और सर्विस पर अलग-अलग हो सकता है।

  1. Q: एफिलिएट मार्केटिंग से कितना पैसा कमाया जा सकता है?

Ans :- इसकी कोई सीमा नहीं है, शुरुआती में थोड़े कम इनकम होंगे परंतु धीरे-धीरे आपकी इनकम में भी बढ़ोतरी होती जाएगी।

  1. Q: एफिलिएट मार्केटिंग से पैसा कमाने के लिए क्या करना होगा?

Ans :- आपको सबसे पहले किसी भी एफिलिएट प्रोग्राम को चलाने वाली कंपनी या फिर व्यक्ति के साथ जोड़ना है और फिर उसके साथ आगे की प्रोसेस कंप्लीट करके इसे शुरू कर देना है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *